मर्दाना कमजोरी

इन कारणों और कामो को करने से होती है मर्दाना कमजोरी

मर्दाना कमजोरी के लक्षण
1.पुरुष को सम्भोग करने के बाद या पहले घबराहट महसूस होती हैं.
2. सम्भोग के समय पुरुष की इंद्री में कठोरता में कमी आना.
3. पुरुष का सम्भोग करने के लिए उत्तेजित न होना.
4. पुरुष के आत्मविश्वास में कमी आना.

पौरूष शक्ति को बढ़ाने के लिए घरेलू उपाय
o) हमेंशा सर्दी हो या गर्मी गुड का सेवन अवश्य करें।
o) शरीर हमेंशा बलवान रहेगा यदि आप गरम दूध के साथ शतवारी का चूर्ण मिश्री के साथ लेते हैं।
o) शरीर की थकान और शरीर को उर्जावान बनाने के लिए पांव के तलवों पर पानी की धार 10 मिनट तक डालें। निश्चित ही फायदा होगा।
0) तुलसी के 2 पत्तों को हमेशा खाएं कभी बीमार नहीं पड़ोगे।
o) सुबह और शाम गाय के दूध का सेवन करना चाहिए।
o) पाचन शक्ति के लिए काली मिर्च, सूखा करी पत्ता, लौंग और सोंठ को पीसकर आधा चम्मच दूध के साथ मिलाकर सेवन करें ।
o) ताकत और उर्जा पाने के लिए शिलाजीत को दूध के साथ हमेशा पींये।
0) अश्वगंधा का सेवन दूध के साथ लेने से भी आपकी शक्ति बढ़ती है।
आम-दो से तीन महीने तक आम का रस पीने से नपुंसकता दूर होती है। यह शरीर की कमजोरी को दूर करके आपको उत्तेजित करती है।
गाजर-गाजर वीर्य को गाढ़ा बनाता है। और इसके सेवन से मर्दों की कमजोरी दूर होती है।
छुहारा-रोज सुबह दूध में भिगोए हुऐ छुहारों को खाने से पुरूष शक्ति बढ़ती है।
नपुंसकता के रोगियों को आयुवेर्दिक उपायों के अलावा अन्य उपाय जैसे खुले मैदान में घूमना, किसी पार्क में घूमना, सूर्य उगने से पहले टहलना और नदी के किनारे घूमना आदि करना चाहिए। प्राकृतिक हवा और पानी आपके अंदर स्फूर्ति और ताकत पैदा करती है।
नपुंसकता के इलाज के लिए आप पांच ग्राम मिश्री के दानें और पांच ग्राम ईसबगोल की भूसी को रोज सुबह के समय खाएं और इसके उपर दूध पी लें। इस उपाय से शीध्रपतन और नपुंसकता दोनों दूर होती हैं।
नपुसंकता के घरेलू उपाय
0) बताशा भी आपकी शरीर की शक्ति को बढ़ाता है। इसलिए बताश्े में आक के तेल की 1 से 2 बूंद सेवन करें।
o) 2 से 3 ग्राम आक के तेल को तिल के तेल में मिलाकर अपने शरीर और अंगों की मालिश करें।
o) गाजर के 100 ग्राम हलुवे में 1 बूंद आक का दूध मिलाकर कुछ दिनों सेवन करें।
o) मूली के बीजों को पीस लें और उसे नित्य दही के साथ चाटने से भी लाभ मिलता है।
o) मर्दाना शक्ति को बढ़ाने के लिए आप सूखा मेवा कम से कम 2 या अधिक माह तक सेवन कर सकते हो।
0) लहसुन की 100 ग्राम मात्रा को घी के साथ भून कर पीस लें और दो चुटकी मठ्ठे या फिर दही के साथ ले।
0) नियमित रूप से छाछ का सेवन करें।
0) मानसिक तनाव को दूर करने के लिए केला अधिक से अधिक खायें। केले में पाये जाने वाले पोटशियम पुरूषों के लिए लाभदायक होता है।
o) अदरक भी आपकी ताकत को बढ़ाता है 1 चम्मच शहद में अदरक का रस डालकर सेवन करना चाहिए।
पौरूष शक्ति को बढ़ाने के लिए पुरूषों को अधिक खट्टी चीजों के सेवन से बचना चाहिए साथ ही तेज मिर्च मसाले आदि से भी बचना चाहिए |
इन कारगर वैदिक उपायों को अपनाने से आप पूरी तरह से नपुसंकता की समस्या से बच सकते हो। साथ ही आपकी पौरूष शक्ति भी बढ़ेगी।

मर्दाना कमजोरी उस परिस्थिति को कहा जाता है, जब पुरुष का यौ*न अं*ग संबंध बनाने के लिए ऊर्जा नहीं जुटा पाता या बनाए नहीं रख पाता। हर पुरुष अपने जीवन में कभी न कभी इस तरह की समस्या से गुजरता है। नपुं*सक शब्द उन पुरुषों के लिए प्रयोग किया जाता है, जो यौ*न संबंध बनाने के 75 प्रतिशत मौकों पर मर्दाना ताकत बनाए नहीं रख पाते।

दिल के रोगों से:-

दिल के रोगों से मर्दाना कमजोरी का खतरा रहता है। मर्दाना कमजोरी दिल के रोगों का संकेत भी हो सकती है। मर्दाना कमजोरी से पीडित ऐसे पुरुष जिनमें पेल्विक ट्रॉमा और दिल के रोगों के कोई लक्षण नहीं हैं, उन्हें यौ*न कमजोरी का इलाज करवाने से पहले दिल के रोगों की जांच करवा लेनी चाहिए, क्योंकि यौ*न संबंधों से दिल के रोगों का संबंध होता है।

ज्यादा साइकिल चलाने से:-

प्रमुख तौर साइकिल चलाने की वजह से होने वाली मर्दाना कमजोरी साइक्लिंग से जुड़े पेशेवर लोगों में पाई गई है। सप्ताह में तीन घंटे से ज्यादा साइकिल चलाने से मर्दाना रूप से कमजोरी हो सकती है। जो लोग सप्ताह में तीन घंटे से ज्यादा साइकिल चलाते हैं, उन्हें उन्हें झुकी हुई अवस्था में साइकिल चलाना चाहिए न कि सीधे रह कर। एक रिपोर्ट के मुताबिक, 540 किलोमीटर की साइकिल दौड़ में भाग लेने वाले नॉर्वे के एक पुरुष में यह समस्या पाई गई। मर्दाना अंग का सुन्न या असंवेदनशील होना लिं*ग की नसों पर दबाव होने की वजह से होता है, जबकि मर्दाना कमजोरी का कारण यौ*न अंगों की धमनियों में ऑक्सीजन की कमी होता है। शौकिया साइकिल चलाने वाले लोग, जो सप्ताह में तीन घंटे से कम साइकिल चलाते हैं और झुकी हुई अवस्था में साइकिल चलाने वाले लोगों के यौन अंग की नसों और धमनियों पर अनावश्यक दबाव नहीं पड़ता और उन में साइक्लिंग की वजह से होने वाले यौन दुष्प्रभाव की संभावना कम होती है। बिल्कुल सीधे रह कर लगातार साइकिल चलाने से अंग में ऑक्सीजन का बहाव कम हो सकता है, जो 10 मिनट तक कम रह सकता है।

 दवाओं के साइड इफेक्ट से :-

आम तौर पर दी जाने वाली 12 में से आठ दवाओं के साइड इफेक्ट में मर्दाना कमजोरी शामिल है। एक अनुमान के मुताबिक, मर्दाना कमजोरी के 25 प्रतिशत मामले दवाओं के प्रतिकूल प्रभाव की वजह से होते हैं।

जननांगों पर दबाव से :-

जननांगों पर लगातार दबाव या मर्दाना अंग की धमनियों में रक्त का बहाव उचित तरीके से न होने से अंग में असंवेदनशीलता या नपुंसकता हो सकती है।

अवसाद, तनाव से :-

अवसाद, तनाव और इसके इलाज के लिए प्रयोग होने वाली दवाओं के असर से भी मर्दाना कमजोरी हो सकती है।
स्ट्रोक, रीढ़ की हड्डी या पीठ की चोट, मल्टीपल स्क्लेरॉसिस और डिमेंशिया जैसे नाड़ीतंत्र के रोग भी मर्दाना कमजोरी का कारण बन सकते हैं।

पेल्विक ट्रॉमा, प्रोस्टेट सर्जरी या प्रियपिसम से भी यह हो सकती है

इसके अलावा उम्र, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, मोटापा, धूम्रपान, नशे का सेवन तथा दिल का रोग भी यौन कमजोरी की वजह बन सकता है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के महासचिव एचसीएफआई के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने यह बात कही।