वीर्य का पतलापन


आज के समय में पुरुषों में वाटरी सीमेन की समस्या एक आम समस्या है, जो पुरुषों की प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती है। पानी जैसे पतले वीर्य के उत्पादन के अनेक कारण हो सकते हैं, कुछ कारण अस्थाई होते हैं जिनके इलाज की आवश्यकता नहीं होती है। जबकि कुछ स्थितियों में गंभीर स्वास्थ्य समस्याएँ, पानी जैसे पतले वीर्य का कारण बन सकती हैं। अतः पानी जैसे पतले वीर्य की समस्या उत्पन्न होने पर व्यक्ति को स्वास्थ्य सलाहकार से परामर्श लेना चाहिए।

पानी जैसा पतला वीर्य क्या है

वाटरी सीमेन (Watery semen) एक पुरुष प्रजनन अंग से सम्बंधित समस्या या बीमारी है इस स्थिति में वीर्य में कम मात्रा में शुक्राणु उपस्थित होते हैं और वीर्य पानी की तरह पतला होता है।
वीर्य, स्खलन के दौरान पुरुष मूत्रमार्ग के माध्यम से निकलने वाला सफ़ेद, गाढ़ा द्रव होता है। यह प्रोस्टेट ग्रंथि और अन्य पुरुष प्रजनन अंगों से शुक्राणु और तरल पदार्थ के परिवहन का कार्य करता है। हालांकि, अनेक स्थितियां वीर्य के रंग और गाढ़ेपन में बदलाव कर सकती हैं।
पानी जैसे पतले वीर्य की स्थिति अधिकांशतः अस्थायी होती है, और अपने आप दूर हो सकती है। पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) कम शुक्राणुओं की संख्या (low sperm count) का संकेत हो सकता है, जो कि संभावित प्रजनन समस्याओं का एक संकेत है। पतला, स्पष्ट वीर्य स्खलन एक अस्थायी और जोखिम रहित स्वास्थ्य स्थिति का संकेत हो सकता है। अतः शुक्राणुओं की संख्या कम होने, जीवनशैली सम्बन्धी कारकों और पोषण संबंधी कमियों के कारण से भी पानी जैसे पतले वीर्य का उत्पादन हो सकता है।

पानी जैसे पतले वीर्य के कारण

पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) के अनेक संभावित कारण हो सकते हैं। जिनमें से अधिकांश कारण को उपचार द्वारा दूर किया जा सकता है। कम शुक्राणुओं की संख्या, धूम्रपान, नशीली दवाओं का का सेवन, तनाव, हार्मोनल असंतुलन, फ्रुक्टोज की कमी और असंतुलित आहार का सेवन आदि सभी पतले और पानी जैसे वीर्य के कुछ सामान्य कारण हो सकते हैं। अतः पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) के संभावित कारणों में निम्न को शामिल किया जा सकता है, जैसे:

वाटरी सीमेन का कारण लो स्पर्म काउंट

पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) के सबसे सामान्य कारणों में शुक्राणु की कमी (लो स्पर्म काउंट) को शामिल किया जाता है। इसे ओलिगोस्पर्मिया (oligospermia) के नाम से भी जाना जाता है। लो स्पर्म काउंट का मतलब वीर्य में सामान्य से कम मात्रा में शुक्राणु के पाए जाने से होता है। वीर्य (semen) के प्रति मिलीलीटर में 15 मिलियन से कम शुक्राणु  उपस्थिति को लो स्पर्म काउंट (ऑलिगॉस्पर्मिया) कहा जाता है।
कम शुक्राणुओं की संख्या (ऑलिगॉस्पर्मिया) के कुछ संभावित कारणों में निम्न को शामिल किया जाता है:
  • वैरीकोसेल (Varicocele)- अंडकोष (testicles) की नसों में सूजन।
  • संक्रमण(Infection) – जैसे गोनोरिया (Gonorrhea), क्लैमाइडिया।
  • अंडकोष ट्यूमर(testicles Tumors)
  • हार्मोन का असंतुलन (Hormone imbalances)
  • स्खलन समस्याएं, जैसे कि रेट्रोग्रेड एजाकुलेशन (retrograde ejaculation)

लगातार स्खलन के कारण पानी जैसा पतला वीर्य होना – Watery semen due to Frequent ejaculation in Hindi

बार-बार स्खलन (Frequent ejaculation) से भी वीर्य का उत्पादन कम हो सकता है। यदि कोई व्यक्ति  दिन में कई बार हस्तमैथुन करता है, तो पहले स्खलन के बाद वीर्य पतला और पानीदार हो जाता है। क्योंकि शरीर को वीर्य की सामान्य, स्वस्थ मात्रा का उत्पादन करने के लिए कुछ घंटों की आवश्यकता होती है। चूँकि यह स्थिति घातक नहीं है तथा इसके लिए किसी भी प्रकार के चिकित्सकीय उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। अतः यह पानी जैसे वीर्य का अस्थाई कारण है।

पानी जैसे पतले वीर्य का कारण जिंक की कमी

पानी के सामान वीर्य (Watery semen) का एक अन्य संभावित कारण जिंक की कमी (Zinc deficiency) है। शोध से पता चला है कि जिन पुरुषों में जिंक की पर्याप्त मात्रा होती है या जो पुरुष जिंक की कमी को दूर करने के लिए जिंक सल्फेट सप्लीमेंट का सेवन करते हैं, वे एंटी-स्पर्म एंटीबॉडी (anti-sperm antibodies) के प्रभाव को बेहतर तरीके से निष्क्रिय कर सकते हैं। ये एंटी-स्पर्म एंटीबॉडी प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा निर्मित होती हैं, और गलती से शुक्राणु के प्रतिक्रिया कर नुकसान पहुंचती हैं।

पानी की तरह पतले वीर्य का कारण है समय पूर्व स्खलन

यदि किसी व्यक्ति का वीर्य पानी जैसा दिखाई देता है, तो वीर्य के रंग और स्पष्टता पर ध्यान देना चाहिए। वास्तव में बहुत स्पष्ट वीर्य, पूर्व स्खलन तरल पदार्थ (pre-ejaculation fluid) हो सकता है, जो फोरप्ले (foreplay) के दौरान निकलता है। अतः पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) का कारण पूर्व स्खलन तरल पदार्थ का उत्पादन हो सकता है।

डिसकलर सीमेन का मतलब क्या है

यदि कोई व्यक्ति नोटिस करने पर पाता है कि वीर्य discolored है, तो इसके भिन्न-भिन्न रंग अनेक स्वास्थ्य समस्या की ओर संकेत कर सकते हैं।
  • वीर्य में गुलाबी या लाल-भूरे रंग की उपस्थिति, प्रोस्टेट में सूजन या वीर्य में खून की उपस्थिति का संकेत हो सकती है या सेमिनल वेसिकल्स (seminal vesicle) में सूजन का संकेत देती है।
  • पीला वीर्य (Yellow semen), थोड़ी मात्रा में मूत्र की उपस्थिति या असामान्य रूप से सफेद रक्त कोशिकाओं (WBC) के उच्च स्तर का संकेत हो सकता है।
  • पीले-हरे रंग के वीर्य (Yellowish-green semen) का मतलब प्रोस्टेट या प्रजनन अंगों में संक्रमण हो सकता है।

क्या पानी जैसा वीर्य प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता ह

पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) का उत्पन्न होना एक अस्थायी समस्या हो सकती है और बिना किसी इलाज के दूर हो सकती है। लगातार पानी जैसे पतले वीर्य के निकलने की स्थिति कभी-कभी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करने वाली स्थितियों जैसे- लो स्पर्म काउंट या किसी अन्य स्थिति का संकेत हो सकती है ।
लेकिन पानी जैसे पतले वीर्य के होने या कम शुक्राणु संख्या की स्थिति व्यक्ति बांझपन की ओर संकेत नहीं करती है, लेकिन यह स्थितियां गर्भ धारण में मुश्किल पैदा कर सकती हैं।

पानी जैसे वीर्य के लिए डॉक्टर को कब दिखाएँ

यदि कोई व्यक्ति महसूस करता हैं कि उसका वीर्य पानी की तरह पतला (Watery semen) है, तो इस स्थिति में प्राथमिक सहायता प्राप्त करने के लिए चिकित्सक या मूत्र रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। यदि कोई व्यक्ति और उसका साथी गर्भधारण करने की कोशिश करना चाहते हैं तो इस स्थिति में फर्टिलिटी विशेषज्ञ (fertility specialist) से सलाह लेनी चाहिए।

पानी जैसे पतले वीर्य का निदान

पानी जैसे पतले वीर्य के कारणों का निदान करने के लिए उपयोगी परीक्षणों में वीर्य विश्लेषण (semen analysis) को शामिल किया जा सकता है। यह परीक्षण शुक्राणु और वीर्य स्वास्थ्य की जांच करने के लिए उपयोगी होता है। इसके अतिरिक्त डॉक्टर द्वारा पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) की निदान प्रक्रिया में निम्न तरह की जाँच की जा सकती हैं, जैसे:
  • स्खलन के दौरान वीर्य की मात्रा की जाँच
  • लिक्विफैक्शन टाइम (liquefaction time) की जाँच – लिक्विफैक्शन टाइम (liquefaction time) वह समय है जो वीर्य को एक गाढ़े, जेल की तरह तरल पदार्थ से पानी की तरह तरल पदार्थ में बदलने में लगता है
  • हार्मोन के स्तर की जाँच
  • एसिडिटी (acidity) की जांच
  • शुक्राणुओं की संख्या (sperm count) की जाँच
  • शुक्राणु गतिशीलता (sperm motility) की जाँच
  • शुक्राणु आकृति विज्ञान (sperm morphology), या शुक्राणु के आकार औरआकृति की जाँच
इसके अतिरिक्त डॉक्टर पीड़ित व्यक्ति से मेडिकल इतिहास के बारे में कुछ प्रश्न पूछेगा और एक शारीरिक परीक्षण करेगा।

पानी जैसे पतले वीर्य का उपचार

पानी की तरह या discolored वीर्य के लिए उपचार प्रक्रियाएं अंतर्निहित कारणों पर निर्भर करती हैं।
कम शुक्राणुओं की संख्या के कारण होने वाले वाटरी सीमेन (Watery semen) के लिए उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। चूँकि कम शुक्राणुओं की संख्या (Low semen count) होने का मतलब यह नहीं होता है, कि सम्बंधित पुरुष गर्भधारण नहीं करा सकता है। इसके अतिरिक्त कुछ संक्रमण की स्थिति भी अस्थायी रूप से कम शुक्राणुओं की संख्या का कारण बन सकती है।
यदि पानी जैसे पतले वीर्य के कारणों में संक्रमण का निदान किया जाता है, तो संक्रमण के उपचार में एंटीबायोटिक थेरेपी (antibiotic therapy) को शामिल किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त हार्मोन असंतुलन की स्थिति में हार्मोन थेरेपी द्वारा कम शुक्राणुओं की संख्या का इलाज किया जा सकता है।
यदि पानी जैसे पतले वीर्य की स्थिति में वैरीकोसेल (Varicocele) का निदान किया जाता है, तो इसके सफल इलाज के लिए सर्जरी जैसे- लेप्रोस्कोपिक सर्जरी, पर्क्यूटेनियस एम्बोलिज़ेशन (Percutaneous embolization) आदि की सिफारिश की जा सकती है।

पानी जैसे पतले वीर्य के लिए घरेलू उपाय

कुछ मामलों में, जीवनशैली में परिवर्तन कर शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाया जा सकता है, तथा पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। इसके तहत निम्न घरेलू उपाय अपनाए जा सकते हैं, जैसे:
  • सिगरेट न पीये
  • संतुलित वजन बनाये रखें
  • शराब के सेवन में कमी लाये
  • गर्म स्नान से बचें
  • तनाव कम करें
  • पर्याप्त नींद लें
  • नियमित रूप से व्यायाम करें,
  • हस्तमैथुन से बचें अर्थात लगातार दो स्खलन के बीच लगभग 3 दिनों का अंतर रखें
  • कार्बोहाइड्रेट से भरपूर आहार का सेवन करें, जैसे- सेब, जामुन, नाशपाती, अंगूर, अमरूद, आम, और तरबूज तथा सब्जियों में ककड़ी, गोभी, टमाटर, सलाद और प्याज आदि।
  • जिंक रिच फूड्स का सेवन करें, जैसे –बादाम, मूंगफली, चिलगोज़ा (पाइन नट्स), काजू और सूरजमुखी के बीज इत्यादि।
इसके साथ ही पानी जैसे पतले वीर्य के इलाज के दौरान डॉक्टर सम्बंधित व्यक्ति को कुछ समय के लिए संभोग से दूर रहने की सलाह दे सकते हैं।